home page

Electric car charging: इलेक्ट्रिक वाहन को चार्ज करने में कितना आएगा खर्च, जानिए पूरी डिटेल

इलेक्ट्रिक वाहन को चार्ज करने में कितना खर्च आएगा ये तो वाहन बैटरी पर ही निर्भर करता है कि बैटरी कि कैपेसिटी कितनी है ? फिर भी नार्मल बैटरी को चार्ज करने में कम से कम 150 रुपये से 300 रुपये का खर्च आ सकता है। 
 
 |  | 1663320303650
file

Electric car charging: आजकल के समय इलेक्ट्रिक वाहनों का काफी ट्रेंड चल रहा है। पेट्रोल डीजल महंगे होने के कारण ग्राहक अब इलेक्ट्रिक वाहनों (Electric vehicles) की तरफ ज्यादा रुख कर रहे है। ऐसे में इन इलेक्ट्रिक वाहनों को चार्ज करने की भी जरूरत होती है। तो आज हम आपको बताते है इन इलेक्ट्रिक वाहनों को चार्ज करने में कितना समय और लागत आती है। 

इलेक्ट्रिक वाहन चार्ज पर कितना खर्च 
इलेक्ट्रिक वाहन को चार्ज करने में कितना खर्च आएगा ये तो  वाहन बैटरी पर ही निर्भर करता है कि बैटरी कि कैपेसिटी कितनी है ? फिर भी नार्मल बैटरी को चार्ज करने में कम से कम 150 रुपये  से 300 रुपये का खर्च आ सकता है। 
 
आजकल उपयोग किये जाने वाले इलेक्ट्रिक वाहनों को ग्राहक घर में चार्ज कर लेते है लेकिन कई बार घर पर वाहन को चार्ज नहीं कर पाते तो बाहर चार्ज करवाना पड़ता है जिसके लिए पैसे खर्च करने पड़ते है। हालाँकि, घर पर चार्ज करने पर कोई खर्च नहीं लगता ओर कार ऑनर ये भी जानते है कि उन्हें कार कितनी चलानी है तो वे उसी के अनुसार कार को चार्ज कर लेते है। 

भारत में ऐसे बहुत से लोग है जो अपनी निजी बिल्डिंग में नहीं बल्कि किसी फ्लैट या अपार्टमेंट में रहते है तो उनके लिए अपने इलेक्ट्रिक वाहन को चार्ज करना मुश्किल होता है लेकिन देश में लगभग 98 प्रतिशत लोग ऐसे है जो मल्टीस्टोरी बिल्डिंग्स (Multistory Buildings) में नहीं रहते है वे ग्राउंड फ्लोर पर ही रहते है तो उनके लिए अपनी इलेक्ट्रिक कार को घर पर ही charge करना कोई मुश्किल काम नहीं होता है 

घर पर ही करे चार्ज  

  • इलेक्ट्रिक वाहन को घर पर ही चार्ज करने के सबसे बड़े फायदे यह है कि घरेलू बिजली कमर्शियल बिजली की अपेक्षा काफी सस्ती होती है। 
  • कम खर्च करना पड़ता है और सरकार द्वारा भी घरेलू बिजली पर सब्सिडी देती है।
  • गाँवों में तो सरकार बिजली पर और भी ज्यादा सब्सिडी देती है इसीलिए गाँवों में इलेक्ट्रिक कार को चार्ज करना और भी ज्यादा सस्ता पड़ता है।
  • घर से चार्ज करने के फायदे यह भी है कि कई बार हम कार से ज्यादा लम्बा सफर करते है तो हमे पता नहीं होता कार को कहां चार्ज करें।
  • अगर घर से चार्ज करेंगे तो हमें किसी गली या चार्जिंग स्टेशन ढूंढने कि जरूरत नहीं होगी। 

ज्यादा लगता है टाइम 
इलेक्ट्रिक वाहनों को चार्ज  करने बहुत ज्यादा समय लगता है। पेट्रोल और डीजल वाहनों कि अपेक्षा ये ज्यादा टाइम लेते है। मान लीजिये आपके पास पेट्रोल या डीजल वेरिएंट कार है ओर आपका तेल कहीं खत्म हो जाता है तो 10 से 15 मिनट में तेल भरवा कर सफर फिर से शुरू कर सकते है ,लेकिन अगर आपके पास इलेक्ट्रिक वाहन है तो उसके लिए आपको कम से कम 1 या 2 घंटे जरूर लगेंगे।

Tags