home page

Indian Railway: ट्रेन में 7 तरह की होती है वेटिंग लिस्ट, ये टिकट होती है सबसे पहले कंफर्म, जानिए पूरी खबर

रिजर्वेशन के द्वारा कोई भी यात्री ट्रेन में अपनी सीट बुक करा सकता है और आरामदायक सफर कर सकता हैं, लेकिन कई बार ऐसा होता है कि सभी को सीट मिलना कन्फर्म नहीं होता है और सीट कुछ समय के लिए वोटिंग में रहती है।
 |  | 1673774640596
file

Indian Railway Ticket Fact: इंडियन रेलवे के द्वारा हर रोज लाखों यात्री सफर करते हैं। इंडियन रेलवे में यात्रा करना अन्य साधनों की अपेक्षा काफी सस्ती होता है और इसलिए इंडियन रेलवे में भीड़ भी ज्यादा होती है। भीड़ भाड़ से बचने के लिए कुछ लोग रिजर्वेशन में यात्रा करते हैं, जिसके लिए पहले से टिकट बुक कराते हैं। रिजर्वेशन के द्वारा कोई भी यात्री ट्रेन में अपनी सीट बुक करा सकता है और आरामदायक सफर कर सकता हैं, लेकिन कई बार ऐसा होता है कि सभी को सीट मिलना कन्फर्म नहीं होता है और सीट कुछ समय के लिए वोटिंग में रहती है। हालांकि कुछ लोग अपनी सीट रिजर्व तो करवा लेते हैं, लेकिन यात्रा के समय उनका प्लान बदल जाता है और वे अपना टिकट कैंसिल करवा देते हैं। इन्हीं खाली सीट से रेलवे वेटिंग टिकट को कंफर्म करता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि रेलवे में वोटिंग सीट 7 तरह की होती है। आज हम आपको उनके बारे में बताते हैं। 

RAC- आरएसी (Reservation Against Cancellation) इस तरह के रिजर्वेशन में एक ही सीट दो पैसेंजर के लिए होती है और जैसे ही एक कन्फर्म सीट कैंसिल होती है, तो सबसे पहले वह सीट दूसरे पैसेंजर को दे दी जाती है। आपको बता दें, ऐसी सीट के कंफर्म होने के चांस सबसे ज्यादा होते हैं। 


RSWL- आरएसडब्ल्यूएल (Road Side Waiting List) एक ऐसी वेटलिस्ट है जो उस स्टेशन से मिलती है, जहां से ट्रेन के शुरू होती है। उदाहरण के लिए जैसे नई दिल्ली-रांची वाली ट्रेन के लिए राजधानी में दिल्ली से ट्रेन बोर्ड करने वाले को इस वेटिंग लिस्ट में डाला जाएगा। 


GNWL- जीएनडब्ल्यूएल एक तरह की जनरल वोटिंग लिस्ट (Genral Waiting List) है, जिसमें ट्रेन से यात्रा करने वाला कोई यात्री कंफर्म्ड टिकट रद्द देता है, तो उसकी सीट दूसरे व्यक्ति को दे दी जाती है। हालांकि उसे पहले कोई अन्य यात्री वोटिंग लिस्ट में ना हो। 

PQWL- पीक्यूडब्ल्यूएल (Pooled Quota Waiting List) जनरल लिस्ट से अलग होती है, जिसमें वो पैसेंजर आते हैं जो ट्रेन के शुरुआती और आखिरी स्टेशन के बीच में चढ़ने-उतरने वाले होते हैं। जैसे - दिल्ली से कोलकाता जा रही ट्रेन में लखनऊ से कोई यात्री ट्रेन पकड़कर पटना में उतरता है। 


NOSB- एनओएसबी (No Seat Bearth) कोई वोटिंग लिस्ट नहीं है, बल्कि यह एक तरह से टिकट की तरह ही है, जिसमें रेलवे की ओर से 12 साल से कम उम्र के बच्चों को आधा किराया लेकर सफर करने की अनुमति दी जाती है। इसमें कोई सेट बुक नहीं की जाती है। 


RLWL- आरएलडब्ल्यूएल (Remote location Waiting List) इस तरह की वोटिंग लिस्ट में छोटे स्टेशनों को ट्रेन में सीट का कोटा मिलता है। ये स्टेशन ज्यादातर दूर-दराज के इलाकों में होते हैं और वहां से ट्रेन में बोर्ड होने वाले पैसेंजर्स को लिस्ट में डाला जाता है। इसमें टिकट कन्फर्म होनेकी ज्यादा संभावना होती है। 

TQWL- टीक्यूडब्ल्यूएल (Tatkal Ticket Book) इस तरह की लिस्ट में तत्काल में टिकट बुक करने की सुविधा मिलती है। इसमें टिकट बुक करने के बाद भी वोटिंग मिलती है और इसमें टिकट कन्फर्म होने की उम्मीद कम रहती है। 


 

Tags