home page

Cervical Cancer Prevention Tips: इस उम्र में लगवाएं यह टीका, नहीं रहेगा कैंसर का खतरा

 |  | 1674125689185
health

Cervical Cancer Prevention Tips: दुनिया भर में हर साल सर्वाइकल कैंसर के मामले बढ़ते जा रहे हैं. सर्वाइकल कैंसर महिलाओं में स्तन कैंसर के बाद दूसरा सबसे आम मामला है। चिंता की बात यह है कि भारत में भी इस बीमारी के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। देश में हर साल इस कैंसर के 122,844 मामले सामने आते हैं। इनमें से करीब 68 हजार महिलाओं की मौत हो जाती है। इसका कारण यह है कि ज्यादातर मामले एडवांस स्टेज में सामने आते हैं। जिससे इसका इलाज करना काफी मुश्किल हो जाता है।


डॉक्टर बताते हैं कि सर्वाइकल कैंसर के लक्षण कम उम्र में ही दिखने लगते हैं, लेकिन महिलाएं इन पर ध्यान नहीं देतीं और बीमारी बढ़ने पर ही डॉक्टर के पास जाती हैं। कई बार ऐसा देखा जाता है कि बीमारी का पता लास्ट स्टेज में ही लग जाता है। डॉक्टरों के मुताबिक सर्वाइकल कैंसर से बचाव के लिए वैक्सीन भी आ गई है, लेकिन लोगों को इसकी जानकारी नहीं है।

आइए विशेषज्ञों से जानते हैं कि सर्वाइकल कैंसर से बचाव के लिए किस उम्र में टीका दिया जा सकता है और इसकी कीमत क्या है।

एचपीवी वैक्सीन सर्वाइकल कैंसर से बचाता है

ऑन्कोलॉजिस्ट डॉ. अनुराग कुमार बताते हैं कि सर्वाइकल कैंसर ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (एचपीवी) वायरस के कारण होता है। इस कैंसर के 99 प्रतिशत मामलों के लिए एचपीवी वायरस जिम्मेदार होता है। यह वायरस यौन संक्रमण से फैलता है। इस वायरस की रोकथाम और सर्वाइकल कैंसर की रोकथाम के लिए कई प्रकार के एचपीवी टीके उपलब्ध हैं और इन्हें अस्पतालों में लगाया जा सकता है। इसे एचपीवी वैक्सीन कहा जाता है। एचपीवी वैक्सीन महिलाओं के शरीर में वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी बनाती है। ऐसे में जब शरीर में वायरस का संक्रमण होता है तो यह एंटीबॉडी उससे लड़ती है और कैंसर से बचाव होता है। इस टीके का एक शॉट 9 से 14 साल की लड़कियों के लिए भी काफी है। यह टीका 9 से 14 साल की उम्र में ही लगवाना चाहिए। इस टीके से सर्वाइकल कैंसर होने का खतरा बहुत कम होता है।


भारत में टीका भी विकसित किया गया है

सर्वाइकल कैंसर का टीका भी भारत में विकसित किया जा चुका है। क्वाड्रीवेलेंट ह्यूमन पैपिलोमा वायरस नाम की इस वैक्सीन को SII ने तैयार किया है। इसे भारत के आधिकारिक टीकाकरण में भी शामिल किया गया है। यह टीका अन्य टीकों की तुलना में काफी सस्ता है। इसकी कीमत 200 से 400 रुपये रहने की उम्मीद है। जल्द ही इस टीके से टीकाकरण भी शुरू कर दिया जाएगा।

Tags