home page

WHO Cough Syrup Alert: WHO किसी दवा को असुरक्षित कैसे घोषित करता है? इसकी प्रक्रिया क्या है

 |  | 1673517967705
health

WHO Cough Syrup Alert: भारत में बने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इन्हें असुरक्षित बताते हुए इनका इस्तेमाल न करने की सलाह दी है. WHO ने अपने मेडिकल प्रोडक्ट अलर्ट में कहा है कि खांसी की दवाई Ambronol और DOK-1 Max घटिया हैं और गुणवत्ता मानकों को पूरा नहीं करते हैं। ऐसे में इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इन सिरप को बनाने वाली कंपनी ने इनकी सुरक्षा और गुणवत्ता की कोई गारंटी नहीं दी है। ऐसे में कफ सिरप का इस्तेमाल खतरनाक हो सकता है।

ये कफ सिरप नोएडा, उत्तर प्रदेश में बेचे जाते हैं। मैरियन बायोटेक द्वारा बनाया गया था। पिछले दिनों उज्बेकिस्तान सरकार ने आरोप लगाया था कि मैरियन बायोटेक के इन दोनों कफ सिरप को पीने से 18 बच्चों की मौत हो गई थी। उज्बेकिस्तान के इस आरोप के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन ने उस सिरप का परीक्षण किया था, जिसमें वह गुणवत्ता के मानक पर खरा नहीं उतरा है.

अब सवाल यह भी उठता है कि WHO किस आधार पर दवाओं को असुरक्षित घोषित करता है और इसके लिए वह कौन से प्रोटोकॉल और SOP का पालन करता है? यह जानने के लिए हमने स्वास्थ्य विशेषज्ञों से बातचीत की है।

किसी दवा या सिरप को असुरक्षित कैसे घोषित करें?

हेल्थ पॉलिसी और एपिडेमियोलॉजिस्ट डॉ. अंशुमान कुमार ने बताया कि जब भी किसी दवा या सिरप को लेकर इस तरह का विवाद होता है तो WHO सबसे पहले अपनी लैब में दवा के सैंपल की जांच करता है. इसके लिए उसी दवा के सैंपल लिए जाते हैं जिससे लोगों को नुकसान या मौत हुई हो। उज्बेकिस्तान के मामले में WHO ने वहां मौजूद सिरप के सैंपल लिए हैं और उन्हें अपने लैब में टेस्ट किया है. लैब टेस्ट में इन सिरप के अंदर डायथिलीन ग्लाइकोल की मात्रा काफी ज्यादा पाई गई है। जिसके बाद WHO ने इन सीरप को असुरक्षित घोषित कर दिया है।


इसकी प्रक्रिया क्या है?
इसके लिए तीन टेस्ट किए जाते हैं

1. रचना

2. परिरक्षक

3. अशुद्धता

कम्पोजीशन टेस्ट: इस टेस्ट में यह देखा जाता है कि दवा में मौजूद नमक और कम्पोजीशन की जानकारी सही है या गलत। यानी अगर किसी दवा या सिरप में बताए गए नमक की मात्रा उससे कम या ज्यादा नहीं है। अगर दवा पर दी गई जानकारी और लैब टेस्ट में किए गए टेस्ट में कोई अंतर होता है तो उसे टेस्ट में पास नहीं किया जाता है।

प्रिजरवेटिव टेस्ट: इस टेस्ट में यह देखा जाता है कि दवा में प्रिजर्वेटिव मिलाए गए हैं और उनकी मात्रा निर्धारित मानक के अनुसार है या नहीं। कभी-कभी ऐसा होता है कि स्वाद लाने के लिए सिरप में डायथिलीन ग्लाइकोल मिलाया जाता है। अगर इनकी मात्रा ज्यादा हो तो ये सेहत को नुकसान पहुंचाते हैं। इस टेस्ट में दिखाया जाता है कि सिरप में ग्लाइकोल की मात्रा कितनी है। यदि यह अधिक है तो परीक्षण में दवा फैल गई मानी जाती है।

अशुद्धता परीक्षण: प्रयोगशाला परीक्षण का अंतिम चरण अशुद्धता परीक्षण है। यह देखा जाना चाहिए कि दवा में कहीं कोई मिलावट तो नहीं है। क्‍योंकि कई बार कुछ सिरप में एल्‍कोहल भी मिला दिया जाता है। जिससे सेहत को नुकसान हो सकता है। इस टेस्ट में देखा जाता है कि सिपर शुद्ध है या नहीं। अगर इसमें कुछ कमी पाई जाती है तो दवा टेस्ट में पास नहीं होती है।

तीनों टेस्ट जरूरी हैं

डॉ. कुमार ने बताया कि किसी भी दवा की जांच के लिए ये तीन टेस्ट किए जाते हैं। अगर इनमें से किसी एक में भी दवा पास नहीं होती है तो इसे असुरक्षित माना जाता है। ज्यादातर मामलों में सिरप में डायथिलीन ग्लाइकोल की मात्रा पाई जाती है। यह बहुत खतरनाक पदार्थ है। इसकी मात्रा अधिक होने से सिर दर्द, उल्टी की शिकायत हो जाती है। कई बार यह किडनी को भी नुकसान पहुंचा सकता है।

ओवरडोज से मौतें

राजीव गांधी अस्पताल के डॉ. अजीत कुमार का कहना है कि कुछ देशों में डॉक्टर दवा तो लिख देते हैं, लेकिन उसकी खुराक की सही जानकारी नहीं देते. कई बार लोग लापरवाही के चलते ज्यादा डोज भी ले लेते हैं। उज्बेकिस्तान में बच्चों की मौत का एक कारण सिरप का ओवरडोज हो सकता है।

Tags