home page

Pregnancy And Sleep: 4 विकार जो नई माताओं की नींद में खलल डाल सकते हैं

 |  | 1668128424980
health

Heath Isues: गर्भावस्था (Pregnency) आपके शरीर पर भारी पड़ सकती है। लेकिन गर्भावस्था के दौरान जितनी नींद की जरूरत होती है, वह हमेशा आसानी से नहीं आती। नींद की समस्या उन कठिनाइयों में से एक है जिसका सामना हर उम्मीद करने वाली माँ को करना पड़ सकता है। नींद कई स्वास्थ्य समस्याओं (Health Problems)में से एक है जो गर्भावस्था के दौरान उत्पन्न हो सकती है। गर्भावस्था के दौरान, कई महिलाएं नींद खो देती हैं और विभिन्न स्तरों की थकावट (Tiredness) का अनुभव करती हैं। कई अन्य महिलाएं ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया, रेस्टलेस लेग सिंड्रोम, अनिद्रा और गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स डिसऑर्डर जैसे नींद संबंधी विकारों से पीड़ित हो सकती हैं।

प्रेग्नेंट औरत! इन 4 विकारों से हो सकती है नींद में खलल
ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (Obstructive Sleep Apnea): वजन बढ़ने और नाक बंद होने के कारण कई गर्भवती महिलाओं को खर्राटे आने लगते हैं7, जो उच्च रक्तचाप के लिए एक जोखिम कारक हो सकता है। कुछ महिलाएं ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (ओएसए) विकसित कर सकती हैं, एक नींद विकार जो खर्राटों, हांफने और सांस लेने में बार-बार चूक की विशेषता है जो नींद की गुणवत्ता में हस्तक्षेप करती है। मुख्य कारण एस्ट्रोजन के स्तर में वृद्धि और गर्दन के आसपास के ऊतकों में परिवर्तन है, जो हवा के प्रवाह को प्रतिबंधित कर सकता है। इसका परिणाम स्लीप एपनिया होता है।
रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम (Restless legs syndrome): रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम (आरएलएस) को रेंगने, गुदगुदी या खुजली जैसी संवेदनाओं की विशेषता होती है, जो पैरों को हिलाने के लिए एक बेकाबू आग्रह का कारण बनती हैं। क्योंकि जब व्यक्ति आराम कर रहा होता है तो लक्षण अधिक गंभीर होते हैं, इस स्थिति में सो जाना मुश्किल हो जाता है। अपने सोने से पहले की दिनचर्या में गर्म स्नान, ध्यान, या एक सौम्य योग दिनचर्या को शामिल करने का प्रयास करें, आप निश्चित रूप से परिणाम देखेंगे।
गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स डिसऑर्डर (Gastroesophageal reflux disorder (GERD)), जिसे नाराज़गी या एसिड रिफ्लक्स के रूप में भी जाना जाता है, अन्नप्रणाली में एक अप्रिय जलन का कारण बनता है, खासकर जब लेटते हैं। यह एक पाचन रोग है जिसमें पेट के एसिड या पित्त से भोजन नली की परत चिढ़ जाती है। यह सभी ट्राइमेस्टर में गर्भवती महिलाओं में अनिद्रा का एक सामान्य कारण है।
अनिद्रा (Insomnia): यदि आप किसी गर्भवती महिला से पूछें कि वह कैसा महसूस कर रही है, तो सबसे पहली और सबसे आम प्रतिक्रिया यह होती है कि वह थकी हुई है। गर्भवती होने पर सोना बेहद मुश्किल होता है। विशेषज्ञों के अनुसार, जब महिलाएं अपनी तीसरी तिमाही में पहुंचती हैं, तो उन्हें अनिद्रा का अनुभव होने लगता है, जो लगभग 80% महिलाओं द्वारा बताया गया है।

Disclaimer: खबर में दी गई जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है। हालांकि इसकी नैतिक जिम्मेदारी द Midpost की  नहीं है। आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से जरूर संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

Tags