home page

Teenage Problem: टीनएज बच्चों की परेशानियों का ऐसे लगाएं पता,उम्र के इस नाजुक पड़ाव में पेरेंट्स को इन बातों का विशेष ख्याल रखने की हैं जरूरत

 |  | 1669019850104
teenage

Teenage Problem: 13 से 19 वर्ष के बीच मानव जीवन की एक अवस्था को जीवन का एक महत्वपूर्ण और संवेदनशील चरण माना जाता है। किशोरावस्था को मानव जीवन का वसंत काल माना गया है। यह अवस्था सभी प्रकार की मानसिक शक्तियों के विकास का समय है। इस उम्र में उनके शारीरिक और मानसिक रूप में कई बदलाव आते हैं। इस समय बच्चा नए और उच्च आदर्शों को अपनाता है। इस उम्र के बच्चे खुद को बड़ा समझने लगते हैं जबकि वास्तव में उनमें पर्याप्त परिपक्वता का अभाव होता है। उनमें सभी प्रकार के सौन्दर्य हित उत्पन्न होते हैं। कभी इनके व्यवहार में काफी उग्रता आ जाती है तो कभी ये काफी इमोशनल हो जाते हैं।

बच्चे का भविष्य जो भी आकार लेता है, उसकी पूरी रूपरेखा लगभग इसी किशोरावस्था में बन जाती है। वे अपने द्वारा लिए गए निर्णय को सही मानने पर जोर देते हैं। इस उम्र में बदलाव का मुख्य कारण उनके शरीर में हार्मोन्स में बदलाव होना है। इसलिए माता-पिता को इस उम्र में अपने बच्चों के व्यवहार पर विशेष ध्यान देना चाहिए। हालांकि यह एक बहुत ही संवेदनशील कार्य है लेकिन साथ ही साथ महत्वपूर्ण भी है।

इस समय माता-पिता का यह कर्तव्य है कि वे निम्न बातों को ध्यान में रखकर अपने किशोर के मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखें-

  • अपने निर्णय बच्चों पर थोपने की कोशिश न करते हुए उनके मन में सही और गलत की समझ विकसित करनी चाहिए। बच्चों पर कोई भी निर्णय थोपने से वे जिद्दी और क्रोधित हो जाते हैं।
  • माता-पिता को अच्छे और बुरे अनुभव बताना चाहिए ताकि वे जागरूक हो सकें। कभी भी उनके सामने अपने जमाने की तुलना न करें क्योंकि वे ऐसे हालात में गुस्सा हो जाते हैं।
  • एक बच्चे की तुलना दूसरे के व्यवहार से कभी नहीं करनी चाहिए क्योंकि हर बच्चा अपने आप में दूसरे से अलग होता है।
  • इस समय माता-पिता को अपनी कंपनी पर ज्यादा से ज्यादा ध्यान देना चाहिए क्योंकि इस समय वे अच्छी और बुरी कंपनियों से प्रभावित होते हैं। बच्चों के दोस्तों पर नजर रखनी चाहिए।
  • बच्चों के भविष्य के बारे में निर्णय लेते समय माता-पिता को बच्चों की उलझन और जिज्ञासाओं का ध्यान रखना चाहिए। सही करियर चुनने में मदद करनी चाहिए।
  • बच्चों के उग्र होने पर माता-पिता को अनियंत्रित शब्दों और हिंसा का सहारा नहीं लेना चाहिए। उन्हें समझाया जाना चाहिए। दोस्तों के रूप में व्यवहार किया जाना चाहिए

Tags