home page

Chanakya Niti: इन कारणों से बर्बाद हो जाता है युवाओं का भविष्य, लक्ष्य से भटकाती है ये तीन चीजें

 |  | 1663753595515
chanakya

Chanakya Niti: बच्चे देश का भविष्य होते हैं, अगर उन्हें शुरू से ही सही मार्गदर्शन मिले तो उनका जीवन समृद्ध हो जाता है। अक्सर यौवन में एक ऐसी अवस्था आ जाती है जिसमें कुछ चीजें व्यक्ति को विचलित करने का काम करती हैं। चाणक्य (Chanakya Niti) का कहना है कि अगर युवाओं को एक सफल इंसान बनना है तो इन बातों से बचना होगा, नहीं तो वर्तमान के साथ-साथ भविष्य अधर में लटक जाएगा। आइए जानते हैं चाणक्य ने युवाओं से दूर रहने के लिए क्या कहा है।

आलस्य का होना

युवा पीढ़ी का सबसे बड़ा दुश्मन आलस्य है। कहा जाता है कि अगर आप अपनी युवावस्था में कड़ी मेहनत करेंगे तो बुढ़ापे में सुधार होगा। चाणक्य (Chanakya) कहते हैं कि आलस्य युवाओं को सफल होने से रोकता है। व्यक्ति जितना अनुशासित होगा, प्रगति उसके चरण चूमेगी। समय बहुत कीमती है, इसका सदुपयोग करें। युवाओं में किया गया संघर्ष लोगों के भविष्य को बेहतर बनाता है। आलस्य से आप कुछ नहीं कमा पाएंगे। लक्ष्य प्राप्ति की दिशा में यदि आप सदैव सक्रिय रहेंगे तो सफलता अवश्य ही प्राप्त होगी।

अत्यधिक क्रोध आना

सफलता की राह में सबसे बड़ी बाधा है क्रोध। क्रोधी व्यक्ति बुद्धि को कमजोर कर देता है। छोटा हो या बच्चा, गुस्सा हर किसी का नुकसान करता है। गुस्से पर काबू करना सीखिए वरना आपकी एक गलती आपके करियर को शांत कर सकती है। क्रोध युवाओं की प्रगति में बाधक है। अगर आप गुस्सैल स्वभाव के हैं तो दूसरे भी आपके व्यवहार का फायदा उठाकर आपके फायदे के लिए जा सकते हैं।

संगती का असर

अच्छी और बुरी दोनों संगति मानव जीवन को बहुत प्रभावित करती है। गलत लोगों की संगति व्यक्ति में बुरे कर्म करने की सोच पैदा करती है। नशा, सेक्स, लड़ाई-झगड़े जैसी इन चीजों से आप जितनी दूरी बनाए रखेंगे, सफलता आपके करीब आती जाएगी। युवावस्था में, संबंधित व्यक्ति की दिशा और स्थिति तय होती है, क्योंकि इस उम्र के लोग अपने अच्छे और बुरे को समझने लगते हैं। इस दौरान अगर कोई अपनी गलत आदतों पर दबाव डालता है तो उसे नजरअंदाज कर भविष्य में पछताते हैं।

और पढ़िए  –

 हेल्थ से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

 बिजनेस से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

Tags