home page

Mental Health: इस उम्र की लड़कियों की मेंटल हेल्‍थ के लिए खतरे की घंटी सोशल मीडिया

 |  | 1663332655285
social media

Mental Health: इंटरनेट के जमाने में सोशल मीडिया का इस्तेमाल हर कोई करता है। इस लिस्ट में बच्चे हो या बड़े, हर किसी को सोशल मीडिया का इस्तेमाल करना बेहद पसंद आता है। आज की इस भागदौड़ भरी जिंदगी में जहां अपने काफी दूर होते हैं वहीं सोशल मीडिया की मदद से आप गैरों के साथ भी कनेक्‍ट हो सकते हैं। लेकिन सोशल मीडिया लोगों को एक दूसरे से जोड़े रखता है तो वही सोशल मीडिया के नुकसान भी है। अगर बात करें सोशल मीडिया के नुकसान की तो इसका नुकसान हर उम्र के लोगों को होता है लेकिन सबसे ज्यादा नुकसान होता है बढ़ते हुए बच्चों यानी Teenagers को। खासकर सोशल मीडिया का सबसे ज्यादा नुकसान Teenager लड़कियों पर देखा गया है। अगर आपकी भी Teenage बेटी है तो ये आर्टिकल को पढ़िए-

क्या है Teenage?

बढ़ते हुए बच्चों के लिए इस शब्द का इस्तेमाल किया जाता है, इन बच्चों की उम्र 15 से 17 साल की होती है। ये एक ऐसी उम्र होती है जहां बच्चा समझने लायक हो जाते हैं। इसी उम्र में अपने आसपास के वातावरण का असर बच्चों की Mental Health पर सबसे ज्यादा पड़ता है।

​सोशल मीडिया का Mental Health पर असर

युवाओं में सोशल मीडिया का चलन काफी ज्यादा है। वो अपने दोस्तों, रिश्तेदारों और कई बार अनजान लोगों से संपर्क बनाए रखने के लिए इसका इस्तेमाल बच्चे करने लगे हैं। लेकिन ज्यादा देर तक सोशल मीडिया के इस्तेमाल का असर बच्चों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ने लगता है। 

​नींद में कमी

युवा बच्चों में सोशल मीडिया का सबसे Negative Impact उनके स्वास्थ्य पर ही नजर आया है, जैसे कि नींद में कमी का होना। सोशल मीडिया का ज्यादा इस्तेमाल करने की वजह से बच्चे कम सोने लगे हैं जिसकी वजह से ध्यान में कमी और Physical Activity में कमी आने लगी है। इस वजह से मानसिक स्वास्थ्य खराब होता जा रहा है। 

​रिश्तों पर असर

भले ही सोशल मीडिया Contact बनाए रखने का अच्छा साधन है लेकिन Digitally और Physically Contact में काफी अंतर देखा गया है। ऐसे लोग जो ज्यादा सोशल मीडिया में लोगों से जुड़े होते हैं वो अपने आसपास के लोगों से बात करना या उनसे संपर्क बनाए रखना कम पसंद करते हैं। जिसकी वजह से असल जिंदगी के रिश्तो में दरारें देखी जा सकती हैं।

​मानसिक दबाव

एक युवा बच्चा Social Media पर अकाउंट बनाता है और तभी से उसके ऊपर मानसिक दबाव पड़ना शुरू हो जाता है। बच्चा कुछ ऐसा करना चाहता है जो वो सोशल मीडिया पर डाल सके और लोग उसे देख सकें।वो भी सोशल मीडिया में अपनी जिंदगी के खुशनुमा पहलू दूसरों को दिखा सके।

Tags