home page

Parenting Tips: अगर आप भी चाहते है बच्चे में अच्छे गुण, तो उन्हे सिखाएं गांधी जी जैसी लीडरशिप की अहम बातें

 |  | 1674031203772
Parenting Tips: अगर आप भी चाहते है बच्चे में अच्छे गुण, तो उन्हे सिखाएं गांधी जी जैसी लीडरशिप की अहम बातें

Parenting Tips: गांधी जी Gandhi Ji को पूरा देश प्यार से बापू के नाम से बुलाता है। बच्चों को स्कूल में बापू के आदर्शों, अहिंसा और सत्य का पालन करने का महत्व भी समझाया जाता है, ताकि वे भविष्य में एक अच्छे व्यक्तित्व के मालिक बन सकें। बापू ने न केवल देश को अंग्रेजों से आजादी दिलाने में अहम भूमिका निभाई, बल्कि उनका पूरा जीवन एक सबक की तरह है, अगर इसका कुछ हिस्सा लागू किया जाए तो व्यक्ति का पूरा जीवन बदल सकता है। महात्मा गांधी के विचारों और उनके द्वारा लिखी गई पुस्तकों का लोगों के जीवन पर बहुत प्रभाव पड़ता है। आइए आज जानते हैं बापू की जन्मतिथि पर 5 ऐसी बातें जो बच्चों को सिखाईParenting Tips  जा सकती हैं।

आदर्श का पालन

अहिंसा परमो धर्म के आदर्श का पालन करने वाले गांधीजी का मानना ​​था कि हिंसा किसी भी चीज का जवाब नहीं हो सकती। लेकिन आज के बच्चे छोटी-छोटी बातों पर भी गुस्सा हो जाते हैं। ऐसे में माता-पिता को अपने बच्चे को समझाना चाहिए कि स्कूल या घर के पास किसी दोस्त से आपका कोई विवाद हो तो उसे गांधी जी की तरह अहिंसा से सुलझाने का प्रयास करें। तभी शांति कायम हो सकती है।

संभव प्रयास करना

यदि व्यक्ति जीवन में कुछ करने की ठान लेता है, चाहे कुछ भी हो जाए, उसे अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए हर संभव प्रयास करना चाहिए। यह व्यक्ति की दृढ़ता है जो उसे हर कठिनाई से लड़ने और पार करने की शक्ति देती है। यह रवैया गांधीजी के कई आंदोलनों में भी देखा जाता है।

धोखे से दूर रहना

झूठ और धोखे से दूर रहना ही बेहतर है। बापू हमेशा सत्य की शक्ति में विश्वास करते थे। वहीं आज के दौर में बच्चे अक्सर झूठ बोलते हैं। बच्चों को हमेशा अपनी गलतियों को स्वीकार करना सिखाया जाना चाहिए। साथ ही माता-पिता को भी अपने बच्चों को बताना चाहिए कि सच बोलने के लिए तैयार रहने से रिश्तों को फिर से बेहतर बनाया जा सकता है.

सरल स्वभाव

महात्मा गांधी बहुत ही सरल स्वभाव के व्यक्ति थे। उनके पास जो कुछ था उससे वे संतुष्ट और उत्साहित थे। माता-पिता को अपने बच्चों को इस तथ्य पर जोर देना चाहिए कि मानवीय रिश्ते और रिश्ते अक्सर हमारी सबसे बड़ी खुशी का परिणाम होते हैं। इसलिए उन्हें सर्वोच्च महत्व दिया जाना चाहिए। महात्मा गांधी का आदर्श वाक्य था 'सादा जीवन, उच्च विचार'।

Disclaimer: खबर में दी गई जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है। हालांकि इसकी नैतिक जिम्मेदारी द Midpost की  नहीं है। आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से जरूर संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

Tags