home page

Abdominal TB: फेफड़ों से निकलकर आपकी आंतों में पहुंच सकता है टीबी, इन लक्षणों से पहचानें

 |  | 1663575812032
Abdominal TB

Abdominal Tuberculosis symptoms: Abdominal TB शरीर में आंतों में बनता है और ये पेरिटोनियम, पेट के लिम्फ नोड्स और कभी-कभी आंत को प्रभावित करता है। आसान शब्दों में इसे आंत की टीबी यानी Intestinal TB भी कहा जाता है। ये मरीज की आंतों को तो प्रभावित करता ही है और कुछ गंभीर मामलों में पेट की टीबी किडनी, लीवर और पैंक्रियाज को प्रभावित कर सकती है।

किन्हे हैं पेट की TB का खतरा?

ये बीमारी बूढ़ों और बच्चों दोनों के लिए खतरनाक हो सकती है क्योंकि इससे आंत्र की तीव्र रुकावट या आंत्र का टूटने  जैसी समस्याएं हो सकती हैं। कई बार ये जानलेवा भी हो सकती हैं।

TB के लक्षण

  • पेट में दर्द या Loose Motion हो रहा है
  • एनोरेक्सिया या वजन होता दिख रहा है

 तो समझ लें कि ये पेट की TB के कारण हो सकता है। आपको पेट से जुड़े लक्षणों को हल्के में नहीं लेना चाहिए बल्कि इसके इलाज के बारे में जानना चाहिए।

पेट की TB के कारण

 पेट की टीबी का कारण TB के कीटाणुओं का बढ़ना हो सकता है। आपको पता होना चाहिए कि टीबी की बीमारी फेफड़ों से आंतों में भी फैल सकती है। अगर आपको गंभीर पेट दर्द है और उसके साथ बुखार, दस्त, एनोरेक्सिया यानी खाने-पीने से जुड़ी बीमारी के भी लक्षण हैं और आपका वजन कम होता जा रहा है तो आपको तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए। कई बार आपको पेट में गांठ महसूस हो सकती है।

पेट की TB का इलाज

  • पेट की टीबी के पाए जाने वाले व्यक्ति को एंटी टीबी दवाएं दी जाएंगी।
  • इसे डॉक्टर की सलाह के अनुसार लें।
  • रोगी का लगभग एक साल तक इलाज किया जाएगा।

इलाज नहीं कराने से क्या होगा

अगर सही समय पर Abdominal Tuberculosis का इलाज न किया जाए तो वजन कम होने, एनीमिया यानी खून की कमी जैसी गंभीर परेशानी का कारण बन सकती है। इस स्थिति को नजरअंदाज करना आपको मुश्किल में डाल सकता है।

DISCLAIMER: ये लेख केवल आपकी जानकारी के लिए है। किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। किसी भी उपाय को करने से पहले या जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़िए  –

ऑटो से जुड़ी खबरें यहाँ  पढ़ें

फोटो गैलरी  से जुड़ी खबरें यहाँ  पढ़ें

लाइफस्टाइल  से जुड़ी खबरें यहाँ  पढ़ें

Tags