home page

Chanakya Niti: ऐसी पत्नी का अगर मिल जाए साथ, तो बर्बाद हो जाता है पति का जीवन

 |  | 1664011096841
chanakya

Chanakya Niti: आचार्य चाणक्य (Acharya Chanakya) चंद्रगुप्त मौर्य (Chandragupt Mourya) के महासचिव थे। चाणक्य को कौटिल्य और विष्णुगुप्त के नाम से भी जाना जाता है। अपने पिता श्री चाणक के पुत्र होने के कारण उन्हें चाणक्य कहा जाता था। चाणक्य ने चंद्रगुप्त को उन्हें राजा बनाना सिखाया था, उनके पोते सम्राट अशोक को भी चाणक्य ने सिखाया था। अगर आप चाणक्य की बातों को अपने जीवन में उतार लेंगे तो आपको दुनिया जीतने से कोई नहीं रोक सकता।

कुग्रामवासः कुलहीन सेवा कुभोजनं क्रोधमुखी च भार्या। पुत्रश्च मूर्खो विधवा च कन्या विनाग्निमेते प्रदहन्ति कायम्॥

  • इस श्लोक का अर्थ यह है कि यदि किसी व्यक्ति को दुष्टों के गांव में रहना हो, या बेसहारा की सेवा करनी हो, तो क्या नहीं खाना चाहिए, हमेशा क्रोधी और गाली देने वाली पत्नी, मूर्ख पुत्र या विधवा पुत्री। तो व्यक्ति का शरीर बिना आग लगाए जलता रहता है।
  • आचार्य चाणक्य ने इस श्लोक के माध्यम से बताया है कि दुष्टों के गांव में रहना, निराश्रित, कुपोषित, क्रोधित पत्नी, मूर्ख पुत्र और विधवा पुत्री की सेवा करना, ये सभी चीजें व्यक्ति को बिना आग के जला देती हैं, अर्थात इन चीजों से व्यक्ति को दुख होता है। सबसे। देता है।
  • आचार्य चाणक्य बताते हैं कि एक सामान्य व्यक्ति के लिए दुष्टों के गांव यानी गलत लोगों के बीच रखना बहुत दर्दनाक होता है। क्योंकि वह सज्जन भी दुष्टों में गिने जाते हैं। ऐसे में वह व्यक्ति यह सोचकर अंदर से जलता रहता है कि उसकी शालीनता कोई नहीं देख सकता.

और पढ़िए  –

 हेल्थ से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

 बिजनेस से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

Tags