home page

Mood Swing: क्या आप भी मूड स्विंग की समस्या से जूझ रहे है? ये 5 हैक्स आपकी मदद कर सकते हैं

 |  | 1667814282690
mood swing

How To Control Mood Swing: अक्सर लोगों के साथ ऐसा होता है कि बिना किसी वजह उनका मूड खराब (mood gets spoiled) हो जाता है या वे खुद को नीचा महसूस (Feeling Low) करने लगते हैं। किसी व्यक्ति की भावनात्मक स्थिति में परिवर्तन (Changed in Emotional Condition), अचानक और बिना किसी कारण के, मूड खराब (Mood Swing) हो जाता है और समान रूप से जल्दी ठीक हो जाता है। इसे मूड स्विंग होना कहते हैं। मूड स्विंग का तात्पर्य थोड़े समय के भीतर मूड में अचानक बदलाव से है। ऐसा किसी को भी हो सकता है और इसके कई कारण हो सकते हैं।

डॉक्टरों के अनुसार, मासिक धर्म (hormonal fluctuations), गर्भावस्था (Pregnency) या रजोनिवृत्ति के दौरान होने वाले हार्मोनल उतार-चढ़ाव के कारण भी महिलाओं का मिजाज बदल सकता है।

मिजाज में शामिल कारक (Reason Of Mood Swing):

प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (Premenstrual syndrome)- 90% से अधिक महिलाएं अपने पीरियड्स से पहले प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पीएमएस) के लक्षणों का अनुभव करती हैं, जिसमें मिजाज भी शामिल हो सकता है।

मासिक धर्म से पहले बेचैनी (Premenstrual discomfort)- प्रीमेंस्ट्रुअल डिस्फोरिक डिसऑर्डर (पीएमडीडी) एक मासिक धर्म से पहले की स्थिति है जो पीरियड शुरू होने से 1-2 हफ्ते पहले चिड़चिड़ापन, चिंता या अवसाद का कारण बनती है।

प्रेग्नेंसी (Pregnancy)- मूड स्विंग्स प्रेग्नेंसी का एक आम लक्षण है। यह गर्भावस्था के पहले हफ्तों के दौरान शुरू हो सकता है।

मेनोपॉज (Menopause)- महिलाओं में मेनोपॉज के समय या पेरिमेनोपॉज के दौरान मिजाज भी बदल जाता है।

इन सबके अलावा, यौवन, मानसिक स्वास्थ्य और तंत्रिका संबंधी स्थितियों और दवाओं के कारण भी मूड में बदलाव हो सकता है।

मूड स्विंग्स को कैसे नियंत्रित करें? (How To control Mood Swing)

  • मिजाज को नियंत्रित करने के लिए आप जर्नलिंग, योगा मेडिटेशन आदि का सहारा लेकर माइंडफुलनेस का अभ्यास कर सकते हैं।
  • कैफीन और अल्कोहल दोनों ही पीएमएस और रजोनिवृत्ति के लक्षणों को बढ़ावा दे सकते हैं। इसलिए इनसे दूर रहने और धूम्रपान करने की सलाह दी जाती है।
  • नींद की कमी से चिड़चिड़ापन, चिंता, अवसाद और थकान हो सकती है। ऐसे में सुनिश्चित करें कि आप पर्याप्त नींद लें।
  • विश्राम का मूड पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। आप सांस लेने के व्यायाम, योग, ताई ची या मालिश करके आराम कर सकते हैं।
  • मनोरंजन से मूड में सुधार हो सकता है। गायन, नृत्य, तैराकी आदि शौक मिजाज को नियंत्रित कर सकते हैं।

Tags