home page

Travelling Tips: क्या आपने देखी भारत की आखिरी की सड़क, यहां से दिखता है पूरा श्रीलंका

 |  | 1669170624000
Travelling Tips: क्या आपने देखी भारत की आखिरी की सड़क, यहां से दिखता है पूरा श्रीलंका
Travelling Tips: भारत की तरह भारत की आखिरी सड़क का इतिहास भी बेहद रोचक है यहां का नजारा बेहद खूबसूरत है क्योंकि इस जगह का संबंध भगवान श्रीराम से जुड़ा हुआ है जी हां दक्षिण भारत में सबसे खूबसूरत लोकेशन पूरी दुनिया में फेमस है यहां वैसे तो बहुत सारे टूरिस्ट प्लेसेस Travelling Tips है लेकिन यहां एक ऐसी सड़क भी है जिसे देखना बेहद जरूरी है यहां की कुछ चीजें ऐसी है कि बहुत जग्गू से अलग मानी जाती हैं भारत की आखिरी सड़क तमिलनाडु राज्य में स्थित है वही इस सड़क Bharat Ki Akhiri Sadak से पड़ोसी देश श्रीलंका को आसानी से देखा जा सकता है।

आखिरी सड़क का नाम

धनुषकोडी तमिलनाडु के दक्षिण-पूर्व में स्थित है। यह स्थान रामेश्वरम द्वीप के तट पर स्थित है और इसे भारत-श्रीलंका की भूमि सीमा के रूप में भी जाना जाता है। इसका क्षेत्रफल मात्र 50 गज है और आधार बालू का ढेर है। लेकिन इसकी खूबसूरती हर किसी का मन मोह लेती है। लंबे समय तक यह जगह सुनसान और सुनसान रही, लेकिन कुछ समय से यहां पर्यटकों का आना शुरू हो गया है।

रहस्मयी बातें

पर्यटन के बेहतरीन स्थलों में शुमार इस धनुषकोडी का ज्यादातर हिस्सा आज भी सुनसान है। पहले घर, अस्पताल, होटल और डाकघर जैसी जगह थी, लेकिन एक चक्रवात के कारण सब कुछ बर्बाद हो गया। जिसमें 1500 से ज्यादा लोगों की जान चली गई थी। और तब से इस जगह का ज्यादातर हिस्सा वीरान पड़ा हुआ है।

भगवान राम से जुड़ा है संबंध

धनुषकोडी रामेश्वरम से केवल 15 किलोमीटर की दूरी पर है और भगवान राम से जुड़ा हुआ है। रामायण काल ​​में भगवान राम ने हनुमान जी को इसी स्थान से राम सेतु बनाने का आदेश दिया था। मान्यता है कि भगवान राम ने माता सीता को लंका से मुक्त कराने के बाद अपने धनुष से रामसेतु को तोड़ा था, इसलिए इस स्थान का नाम धनुषकोडी पड़ गया।

Disclaimer: खबर में दी गई जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है। हालांकि इसकी नैतिक जिम्मेदारी द Midpost की  नहीं है। आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से जरूर संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

Tags