home page

One Nation One Charger: ऐप्पल की बढ़ी टेंशन, अब एक ही होगा मोबाइल और लैपटॉप का चार्जर; जानें वजह

 |  | 1668697819342
USB type C charger

One Nation One Charger: यूरोप से "वन नेशन वन चार्जर" की मांग भारत पहुंची थी और अब सरकार ने ऐप्पल की टेंशन बढ़ा दी है क्योंकि इस मांग को मंजूरी मिल गई है। अब वन नेशन वन चार्जर को लेकर मोबाइल कंपनियों के बीच सहमति बन गई है यानि सभी मोबाइल कंपनियों की तरफ से वन नेशन वन चार्जर की मांग को स्वीकार कर लिया गया है। जानकारी मिली है कि देश में मोबाइल-लैपटॉप के लिए एक सिंगल चार्जर होगा जो कि USB Type-C चार्जर होगा।

अब होगा सिर्फ एक चार्जर

इस सहमति के बाद साफ है कि USB Type-C चार्जर से मोबाइल टैबलेट और लैपटॉप को चार्ज किया जा सकेगा। वैसे इस फैसले से उन लोगों की तो मौज होगी जिनके लैपटॉप, टैबलेट और मोबाइल फोन USB Type-C चार्जर के साथ आते हैं। वही चार्जर घर भूल जाने वालों को भी फोन चार्ज करने को लेकर कोई दिक्कत नहीं होगी।

यूरोपियन यूनियन ने दी मंजूरी

बता दें कि भारत से पहले यूरोपियन यूनियन ने इस साल 7 जून को कॉमन स्टैंडर्ड चार्जर के तौर पर USB Type-C चार्जिंग को मंजूरी दी थी। इसके बाद सभी स्मार्टफोन के लिए कॉमन USB Type-C चार्जिंग को मंजूरी दी गई थी। ऐसे में साल 2024 तक सभी स्मार्टफोन के लिए USB-C पोर्ट अनिवार्य कर दिया गया है। खास बात ये है कि इसमें Apple डिवाइस को भी शामिल किया गया है। अब ऐसे में Apple की टेंशन बढ़ गई है कि उसे चार्जिंग केबल में बदलाव करना होगा।

ये रही कॉमन चार्जर नियम की वजह

दरअसल कॉमन चार्जर के पीछे भारत की चिंता है कि यूरोपियन यूनियन के इस तरह के फैसले के बाद यूरोप का सारा इलेक्ट्रिक कचरा भारत शिफ्ट किया जा सकता है। इसलिए भारत सरकार की जल्द से जल्द USB Type-C पोर्ट को मंजूरी मिलने पर काम कर रही है।