home page

Phone Battery Problems: ये होते हैं फोन की बैटरी धड़ाम से गिरने के बड़े कारण

 |  | 1673538361222
Smartphone Battery

Phone Battery Problems: आज के समय में फोन हर किसी की जरूरत बन गया है लेकिन अगर एक ऐसा फोन आपके हाथ में हो जिसकी बैटरी बहुत जल्दी खत्म हो जाती है तो ये बहुत परेशान करता है। खासकर अगर आप कहीं बाहर हों और फोन की बैटरी लो हो या जल्दी खत्म हो जाती हो तो आप घंटों फोन चार्ज करते रहते हो और चार्जिंग उससे आधे टाइम में ही खत्म हो जाए।

अगर आप भी इन्ही लोगों में शामिल है और आपके साथ भी ऐसा होता है तो इसके कई कारण हो सकते हैं। अगर आपका फोन काफी पुराना हो गया है तो आप बैटरी ठीक करने के लिए ज्यादा कुछ नहीं कर सकते लेकिन अगर आपका फोन पुराना नहीं है और उसकी बैटरी हेल्थ भी ठीक है तो कुछ कारणों पर ध्यान देकर इसे बेहतर जरूर किया जा सकता है।

पिक्चर-इन-पिक्चर मोड

अगर आपने फोन पर पिक्चर-इन-पिक्चर मोड का इस्तेमाल किया है तो आपको पता होगा की इसका मतलब है कि वीडियो को छोटे बॉक्स में देखना और साथ-साथ में बाकी ऐप्स का प्रयोग करना। वैसे ये कनविनिएंट तो है लेकिन ऐप्स को एक-साथ इस्तेमाल करने से बैटरी तेजी से ड्रेन होती है।

आप इस सेटिंग को एंड्रॉइड स्मार्टफोन में डिसेबल करने के लिए फोन की सेटिंग्स में ऐप्स सेक्शन में जाएं। यहां पर आईफोन में जनरल सेक्शन में पिक्चर-इन-पिक्चर में जाएं। इसके बाद लिस्ट में से ऐप सेलेक्ट कर लें।

लोकेशन ट्रैकिंग ऐप्स

फोन में ऐसी कई सारी ऐप्स होती है जो लोकेशन ट्रैक कर सकती हैं और आप सोचते होंगे कि ये लोकेशन ट्रैकिंग तभी करती है जब आप इसका इस्तेमाल करते हैं लेकिन ऐसा नहीं है। ये ऐप्स बैकग्राउंड में भी हमेशा ट्रैकिंग करती रहती हैं जिससे फोन की बैटरी लाइफ तेजी से ड्रेन होती है।

इससे बचने का सबसे आसान उपाय है कि फोन की लोकेशन ट्रैकिंग को ही डिसेबल/डीएक्टिवेट कर दें।

नोटिफिकेशन्स

जब भी स्मार्टफोन में कोई नई ऐप डाउनलोड करते हैं तो ज्यादातर समय नोटिफिकेशन्स सेटिंग्स या तो हम बिना चेक किए एनेबल कर देते हैं या ये ऑटोमेटिकली एक्टिवेट हो जाती है। लेकिन हमेशा हर ऐप की नोटिफिकेशन्स की जरूरत नहीं होती। हर ऐप से नोटिफिकेशन आने पर इससे फोन की बैटरी लाइफ पर असर पड़ सकता है।

बैटरी सेविंग टिप्स

  • बैटरी सेव करने के लिए सबसे पहले फोन के साथ आने वाले चार्जर से ही फोन को चार्ज करें।

  • इससे बैटरी अपनी मैक्सिमम कैपेसिटी पर काम कर पाएगी।
  • चार्जिंग स्पीड में भी मदद मिलेगी।
  • ये चेक करना भी जरूरी है कि आपके फोन की बैटरी लाइफ कौन-सी ऐप सबसे ज्यादा खा रही है।
  • फोन सेटिंग्स के बैटरी सेक्शन में जाकर आप ये देख सकते हैं और इन ऐप्स के बारे में जानने के बाद इनकी परमिशन सीमित कर दें।

पावर-सेविंग मेथड्स

हो सकता है कि इन पावर-सेविंग ट्रिक्स से आपको बाहर जाते समय अब स्मार्टफोन बैटरी को लेकर टेंशन नही लेनी पड़ेगी। आप अपने स्मार्टफोन की बैटरी को ऑप्टिमाइज कर पाएंगे।

Tags